महाराष्ट्र संगठित अपराध नियंत्रण अधिनियम ( MCOCA ) के तहत 9 साल से फरार बेरी को दिल्ली पुलिस ने किया गिरफ्तार

9 साल से फरार 47 वर्षीय नील बेरी को महाराष्ट्र संगठित अपराध नियंत्रण अधिनियम ( MCOCA ) के तहत को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया है। नील बेरी उर्फ ​​सुनील कुमार हरियाणा के मेवात में लुटेरों के एक अंतरराज्यीय गिरोह का सबसे सक्रिय सदस्य था। और वो आठ से अधिक आपराधिक मामलों में शामिल था।

delhi-police
Google-image-credit- News – Fresherslive

अधिकारियों ने बुधवार को यह जानकारी दी। दिल्ली, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और राजस्थान में चोरी, धोखाधड़ी और आपराधिक हेराफेरी जैसे मामलो में सक्रिय पाया गया है। महाराष्ट्र संगठित अपराध नियंत्रण अधिनियम (MCOCA) के तहत एक मामले में ​​सुनील कुमार को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपी अपराधियों को वित्तीय और अन्य सहायता प्रदान किया करता था।




इसे भी पढ़े- https://www.thebiographypen.com/taiwan-nancy-pelosi-live-update/

निरीक्षकों के नेतृत्व में छापा मारकर और उसे गिरफ्तार कर लिया। पुलिस उपायुक्त ने कहा, आरोपी को 30 जुलाई को एक घर से गिरफ्तार किया गया था। वह हरियाणा के रोहतक में राजेंद्र कॉलोनी इलाके में छिपा था। उसे इससे पहले इसी मामले में 2015 में भगोड़ा घोषित किया गया था।




बेरी को बाहरी दिल्ली, हरियाणा के झज्जर और रोहतक के इलाकों में अक्सर आते जाते देखा था। सुनील कुमार रोहतक (हरियाणा) का निवासी है। MCOCA मामले में उसके 14 सहयोगियों को पहले ही गिरफ्तार कर लिया गया था। उन सब पर अभी मुकदमा चल रहा हैं।

इसे भी पढ़े- https://www.thebiographypen.com/cwg-2022-bharat-pahucha-semifinal-me/

क्या हैं मामला ?

सिंडिकेट के सदस्य हाईवे पर कीमती सामानों से लदे ट्रैक्टरों, कंटेनरों और ट्रकों को लूटते थे और उनके ड्राइवरों और सहायकों को अगवा करते थे और फिर उनके ट्रकों को लूटकर छोड़ देते थे। पुलिस ने कहा कि नील बेरी इन सदस्यों से लूटे गए वाहन, ट्रैक्टर और महंगे सामानों से लदे कंटेनर प्राप्त करता था।




इसे भी पढ़े- https://www.thebiographypen.com/mahua-moitra-tweet-on-her-viral-video/

 MCOCA के बारे में ?

 

MCOCA
Google-image-credit- Times of India

महाराष्ट्र कंट्रोल ऑफ ऑर्गेनाइज्ड क्राइम एक्ट (MCOCA) 1999 में महाराष्ट्र सरकार द्वारा बनाया गया एक एक्ट (Act) हैं। यह संगठित और अंडरवर्ल्ड अपराध को खत्म करने के लिए लाया गया था।

इसे भी पढ़े- https://www.thebiographypen.com/cwg-2022-lavpreet-singh-won-kansya-padak/

 

Previous articleCWG 2022 में भारतीय महिला क्रिकेट टीम का दिखा दम, बारबाडोस को हराकर बनाया सेमीफइनल में जगह
Next articleApple iPhone 14 भारत में सितंबर में हो सकता है लॉन्च: जानिये, यह iPhone 13 से कैसे अलग हो सकता है?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here